जिन्दगी में एक नया मोड़

Khwaja Moinuddin Chishti History in HindiGarib Nawaz History in Hindi

जिन्दगी में एक नया मोड़

ख्वाजा साहब र0 अ0 शुरू से ही दुरवेशों, सूफियों और फकीरों की संगत में बैठते, उनका अदब करते और उनसे मुहब्बत रखते थे। एक रोज आप अपने बाग में पौधों को पानी दे रहे थे कि एक बुजुर्ग शेख इब्राहीम कन्दोजी र0अ0 थे। कम उम्र बागबान यानी ख्वाजा साहब की नजर जब उन पर पड़ी तो सब काम छोड़कर आपके पास आ गये और आपके हाथ को चूमा और बहुत अदब से एक सायादार पेड़ की छांव में लाकर बिठाया। और तो कोई सामान था नही मगर इन दिनोुं अंगूर का मौसम था और अंगूर के खुशनूमा गुच्दे लअक रहे थे। ख्वाजा साहब ने अंगूरो का एक पका हुआ गुच्छा तोड़कर उनको पेश किया और उनके सामने अदब से बैठ गये । अल्लाह वाले बुजुर्ग को आपकी यह अदा बहुत पसन्द आई और उन्होने खुशी से नोश फरमाये। बुजुर्ग की खुदा शनास नजरों से फौरन ताड़ लिया कि यह होनहार बच्चा राहे हक का तालिब है। उन्होने अपनी जेब से खली का एक टुकडा निकाला और उसको अपने दांतो से चबाकर ख्वाजा साहब के दहने मुबारक (मुख) में डाल दिया। हमारे ख्वाजा क्योंकि शुरू से ही दुरवेशों का अदब करते और फकीरों से मुहब्बत रखते थे, इसलिए इब्राहीम कन्दोजी र0 अ0 के दिये हुए खली के टुकडे को खा गये। फिर क्या था, आपका दिल दुनिया से उचट गया और वहम के सभी परदे हट गये। खली का वह टुकड़ा हलक से उतरना था कि आप रूहानियत की दुनिया में पहुच गये, दिल में एक जोशे हैरत पैदा हो गया, आंख खुली रह गई। जब आप उस हालत से बाहर आये तो अपने को तन्हा पाया। शेख इब्राहीम कन्दोजी र0अ0 जैसे आये थे वैसे ही जिधर मुंह उठा, चल दिये।

शेख इब्राहीम कन्दोजी र0 अ0 तो चल दिये लेकिन हमारे ख्वाजा र0 अ0 ने जो जलवा देखा था वह आपकी नजरों के सामने फिर रहा था और ऐसा नही था जिसको फरामोश किया जा सकता। वर बार-बार इसको देखने की ख्वाहिश करते। आपने हर मुमहनि सब्र और तहम्मुल (धीरज) से काम लिया मगर फिर भी दिल काबू में न रहा। इश्क की आग भड़क उठी और जब दीवानगी हद से बढ़ने लगी तो आपकी नजरों में दुनिया और इसकी दौक्लत हकीर (तुच्छ) नजर आने लगी। चुनाचे बाग और पवन चक्की को बेचकर, और जो कुछ नगद व सामान पास मौजूद था, राहे खुदा में फकीरों और बेसहारों में बांट दिया और थोड़ा सा जरूरी सामान साथ लेकर तलाशे हक में निकल पड़े।

Ajmer SharifGarib NawazKhwaja Moinuddin Chishti Garib Nawaz History in Hindi